MAHAMRITYUNJAYA MANTRA | महामृत्युंजय मंत्र | Chanting For Good Health And Long Life

Click here to get this post in PDF

सबसे प्रभावशाली मंत्र है- महामृत्युंजय मंत्रइस मंत्र का जाप करने से वैभव व ऐश्वर्य की कामना पूरी होती है।  ऐसा चमत्कारी मंत्र है, जिसके नित्य जाप से कुंडली में मौजूद दोष दूर हो जाते हैं।

महामृत्युंजय मंत्र भगवान शिव को प्रसन्न करने वाला खास मंत्र है। ये मंत्र ऋग्वेद और यजुर्वेद में भगवान शिव की स्तुती में लिखा है। रुद्राक्ष की माला से इस मंत्र का जप करना चाहिए। जिससे हर तरह की परेशानी और रोग खत्म हो जाते हैं। वहीं अकाल मृत्यु (असमय मौत) का डर भी दूर होता है। शिवपुराण के अनुसार, इस मंत्र के जप से मनुष्य की सभी बाधाएं और परेशानियां खत्म हो जाती हैं।

महामृत्युंजय मंत्र का जप करने से मांगलिक दोष, नाड़ी दोष, कालसर्प दोष, भूत-प्रेत दोष, रोग, दुःस्वप्न, गर्भनाश, संतानबाधा कई दोषों का नाश होता है।

दीर्घायु (लम्बी उम्र) – जिस भी मनुष्य को लंबी उम्र पाने की इच्छा हो, उसे नियमित रूप से महामृत्युजंय मंत्र का जप करना चाहिए। इस मंत्र के प्रभाव से मनुष्य का अकाल मृत्यु का भय खत्म हो जाता है। यह मंत्र भगवान शिव को बहुत प्रिय है, इसका का जप करने वाले को लंबी उम्र मिलती है।

आरोग्य प्राप्ति – यह मंत्र मनुष्य न सिर्फ निर्भय बनता है बल्कि उसकी बीमारियों का भी नाश करता है। भगवान शिव को मृत्यु का देवता भी कहा जाता है। इस मंत्र के जप से रोगों का नाश होता है और मनुष्य निरोगी बनता है।

सम्पत्ति की प्राप्ति – जिस भी व्यक्ति को धन-सम्पत्ति पाने की इच्छा हो, उसे महामृत्युंजय मंत्र का पाठ करना चाहिए। इस मंत्र के पाठ से भगवान शिव हमेशा प्रसन्न रहते हैं और मनुष्य को कभी धन-धान्य की कमी नहीं होती है।

यश (सम्मान) की प्राप्ति – इस मंत्र का जप करने से मनुष्य को समाज में उच्च स्थान प्राप्त होता है। सम्मान की चाह रखने वाले मनुष्य को प्रतिदिन महामृत्युजंय मंत्र का जप करना चाहिए।

संतान की प्राप्ति – महामृत्युजंय मंत्र का जप करने से भगवान शिव की कृपा हमेशा बनी रहती है और हर मनोकामना पूरी होती है। इस मंत्र का रोज जाप करने पर संतान की प्राप्ति होती है।

ॐ ह्रौं जूं सः भूर्भुवः स्वः त्र्यम्बकम् यजामहे सुगन्धिम् पुष्टिवर्धनम् । उर्वारूकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मा मृतात् भूर्भुवः स्वरों जूं सः ह्रौं ॐ ।।

Mahamrityunjay Mantra Benefits is a very powerful life restoring mantra to overcome all illness and chronic diseases. Regular recitation of this Mantra helps in restoring health and peace of mind. It is believed that it has some sort of supernatural power that will help you to open blocked energy points in your body, heal the ailments. And with regards to astrology, it can also overcome the harsh effects of the planets in the individual horoscope.

Mahamrityunjaya Mantra, also termed as the Tryambakam Mantra, is a prayer offered to the ancient deities viz. Indra, Varuna, and Mitra. This prayer is recitation of names to Lord Shiva, and is believed to overcome death to nourish and nurture human beings from all illness and diseases.

_______

Types of Mahamrityunjaya Mantra
Mrityunjay Mantra
Ekakshar Mrityunjay Mantra
Trayakshar Mrityunjay Mantra
Chaturakshar Mrityunjay Mantra
Navakshar Mrityunjay Mantra

_______

Mahamrityunjaya Mantra Lyrics in English
Om Tryambakam Yajamahe
Sugandhim Pushtivardhanam
Urvarukamiva Bandhanan
Mrityor Mukshiya Maamritat

_______

Mahamrityunjaya Mantra Meaning In Hindi To English
aum = is a sacred syllable in Sanatan Dharma.
tryambakam = the three-eyed one
yajāmahe = We adore, honor and worship.
sugandhim = sweet fragrance.
puṣṭi = A fullness of life.
vardhanam = One who nourishes and strengthens health and wealth.
puṣṭi+vardhanam = The one who nourishes others and ensures their fullness.
urvārukam-iva = like the cucumber or melon or a big peach.
bandhanān = “from captivity”.
mṛtyormukṣīya = Free, liberate From death.
mā’mṛtāt = immortality.

_______

Mahamrityunjaya Mantra Lyrics in Hindi
( ॐ )ओम त्र्यंबकम याजमाहे
सुगांधिम पुष्तीवर्धनम
उर्वुकुमाइव बंधनन
श्रीमती मुंशी ममृितत

_______

Mahamrityunjaya Mantra in Telugu
ఓం త్రయంబకం యజామహే సుగంధిం పుష్టివర్ధనం
ఉరువరుకమివ బబన్ధనత్ మ్రుతోర్ ముక్షియ మమ్రుతాట్

_______

Mahamrityunjaya Mantra in Tamil
ஓம் த்ரயம்பகம் யஜமஹி
சுகந்திம் புஷ்டி வர்தனம்
உர்வருகமிவ பந்தனாத்
ம்ருத்யோர் முக்ஷிய மம்ருடட்

_______

Mahamrityunjaya Mantra in Gujarati
ઓમ ત્ર્યામ્બકામ યજામહે સુગંધિમ પુશ્તીવાર્ધાનામ
ઉર્વારુકામીવા બબંધાનત મૃતોર્મુક્શીયા મામૃતાત

Song – Mahamrityunjay Mantra
Singer: Arijit Chakraborty
MUSIC COMPOSERS – Gourab Shome.
Lyrics: Traditional.

Do comment and share the video with your loved ones.

Like us on Facebook – https://goo.gl/doxT7X
Follow us on Instagram – https://goo.gl/Iwe0uu
Find us on in. Pinterest – https://goo.gl/JZMdHW
Click Below for More Peaceful & Religious Music Videos – http://goo.gl/j8k2n

* The spiritual nature of music cannot be defined by religion, culture or genre
* Music and spiritual life go together; one complements the other
* Music is the mediator between the spiritual and the sensual life.

Spiritual Mantra for life the best destination for #MahamrityunjayMantraBenefits #महामृत्युंजयमंत्र #VeryPowerfulMantra
#TryambakamMantra #108Times #ShivaMahamrityunjayaMantra
#MahamrityunjayaMantra #Mantra